कॉल फ्री होने से क्या होता है साहिब,दिलों में गुंजाइश भी तो होनी चाहिए

कॉल फ्री होने से क्या होता है साहिब,दिलों में गुंजाइश भी तो होनी चाहिए बात करने के लिए।

By | 2017-09-12T11:17:42+00:00 September 12th, 2017|Two Line Shayari|0 Comments

बहुत सा पानी छुपाया है मैंने अपनी पलकों में,जिंदगी लम्बी बहुत है

बहुत सा पानी छुपाया है मैंने अपनी पलकों में,जिंदगी लम्बी बहुत है, क्या पता कब प्यास लग जाए।

By | 2017-09-12T11:03:12+00:00 September 12th, 2017|Two Line Shayari|0 Comments

हवस ने पक्के मकान, बना लिये हैं जिस्मों में..और सच्ची मुहब्बत किराये

हवस ने पक्के मकान, बना लिये हैं जिस्मों में..और सच्ची मुहब्बत किराये की झोपड़ी में, बीमार पड़ी है आज भी।

By | 2017-09-12T11:00:27+00:00 September 12th, 2017|Two Line Shayari|0 Comments