दिल का दर्द युँ लफ़्ज़ों में बयाँ करते ही नहीं तेरी तसवीर आँखों से न बह जाये इसलिये रोते ही नहीं

दिल का दर्द युँ लफ़्ज़ों में बयाँ करते ही नहीं, तेरी तसवीर आँखों से न बह जाये इसलिये रोते ही नहीं, तेरे इश्क़ का जुनुँ छाया है इस क़दर, ज़िंदा हैं ईसी ग़ुमान में वर्ना हम होते ही नहीं।

By | 2017-09-15T03:58:46+00:00 September 15th, 2017|Romantic Shayari|0 Comments