चलते रहे कदम.. किनारा जरुर मिलेगा

"चलते रहे कदम.. किनारा जरुर मिलेगा, अन्धकार से लड़ते रहे सवेरा जरुर खिलेगा, जब ठान लिया मंजिल पर जाना रास्ता जरुर मिलेगा, ए राही न थक चल.. एक दिन समय जरुर फिरेगा।"

By | 2017-09-14T09:09:40+00:00 September 14th, 2017|Life Shayari|0 Comments