आज़ादी की कभी शाम ना होने देंगे

"आज़ादी की कभी शाम ना होने देंगे, शहिदो को कभी बदनाम नही होने देंगे, बची हो जो एक बूँद भी गर्म लहू का, तब तक भारत माता का आँचल बदनाम ना होने देंगे"

By | 2017-12-06T11:59:45+00:00 December 6th, 2017|republic day shayari|0 Comments

कोई हस्ती कोई मस्ती

"कोई *'हस्ती'* कोई *'मस्ती'* कोई *'चाह'* पे मरता है.. कोई *'नफरत'* कोई *'मोहब्बत'* कोई *'लगाव'* पे मरता है.. ये *""देंश""* है उन *'दिवानों'* का यहां हर बन्दा अपने *""हिंदुस्तान""* पे मरता है.."

By | 2017-12-06T11:53:33+00:00 December 6th, 2017|republic day shayari|0 Comments