घर से बाहर कोलेज जाने के लिए वो नकाब मे निकली

"घर से बाहर कोलेज जाने के लिए वो नकाब मे निकली …. सारी गली उनके पीछे निकली… इनकार करते थे वो हमारी मोहबत से………. और हमारी ही तसवीर उनकी किताब से निकली………"

By | 2017-09-27T06:48:20+00:00 September 27th, 2017|Mirza Ghalib|0 Comments

इस दिल को किसी की आहट की आस रहती है

"इस दिल को किसी की आहट की आस रहती है, निगाह को किसी सूरत की प्यास रहती है, तेरे बिना जिन्दगी में कोई कमी तो नही, फिर भी तेरे बिना जिन्दगी उदास रहती है॥"

By | 2017-09-27T06:30:46+00:00 September 27th, 2017|Mirza Ghalib|0 Comments

वादे पे वो ऐतबार नहीं करते

"वादे पे वो ऐतबार नहीं करते, हम जिक्र मौहब्बत सरे बाजार नहीं करते, डरता है दिल उनकी रुसवाई से, और वो सोचते हैं हम उनसे प्यार नहीं करते |"

By | 2017-09-27T03:56:42+00:00 September 26th, 2017|Mirza Ghalib|0 Comments