दिल से रोये मगर होंठो से मुस्कुरा बेठे यूँ ही हम किसी से वफ़ा निभा बेठे

दिल से रोये मगर होंठो से मुस्कुरा बेठे, यूँ ही हम किसी से वफ़ा निभा बेठे, वो हमे एक लम्हा न दे पाए अपने प्यार का, और हम उनके लिये जिंदगी लुटा बेठे..

By | 2017-09-13T11:36:08+00:00 September 13th, 2017|Bewafa Shayari|0 Comments

कभी उसने भी हमें चाहत का पैगाम लिखा था सब कुछ उसने अपना हमारे नाम लिखा था

कभी उसने भी हमें चाहत का पैगाम लिखा था, सब कुछ उसने अपना हमारे नाम लिखा था, सुना हैं आज उनको हमारे जिक्र से भी नफ़रत है, जिसने कभी अपने दिल पर हमारा नाम लिखा था..

By | 2017-09-13T11:31:54+00:00 September 13th, 2017|Bewafa Shayari|0 Comments

प्यार किया था तो प्यार का अंजाम कहाँ मालूम था

प्यार किया था तो प्यार का अंजाम कहाँ मालूम था, वफ़ा के बदले मिलेगी बेवफाई कहाँ मालूम था, सोचा था तैर के पार कर लेंगे प्यार के दरिया को, पर बीच दरिया मिल जायेगा भंवर कहाँ मालूम था..

By | 2017-09-13T11:29:37+00:00 September 13th, 2017|Bewafa Shayari|0 Comments