देखा है जबसे तुमको मेरा दिल नहीं है बस में.. जी चाहे आज

देखा है जबसे तुमको मेरा दिल नहीं है बस में..
जी चाहे आज तोड़ दूँ दुनिया की सारी रस्मे..
तेरा साथ चाहता हूँ तेरा हाथ चाहता हूँ..
बाँहों में तेरी रहना मैं दिन रात चाहता हूँ।

By | 2017-11-27T11:16:36+00:00 November 27th, 2017|Hug Day Shayari|0 Comments